नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को साल 2018-2019 का बजट पेश किया। इस बजट के दौरान वित्त मंत्री ने देश के पहले नागरिक राष्ट्रपति की सैलरी को बढ़ाने का ऐलान किया है। वित्त मंत्री जेटली ने बजट में राष्ट्रपति की सैलरी पांच लाख रुपए प्रतिमाह करने का ऐलान किया। राष्ट्रपति की तनख्वाह को लेकर पहले भी मांग उठती रही है। फिलहाल भारतीय राष्ट्रपति को 1.5 रुपए बतौर सैलरी दिए जाते हैं। जबकि भत्तों आदि को मिलाकर वह प्रतिमाह पांच लाख रुपए तक हासिल करते हैं।
वहीं उप राष्ट्रपति की सैलरी बढ़ाने का भी ऐलान किया। अब उप राष्ट्रपति को हर माह चार लाख रुपए की सैलरी दी जाएगी। जबकि राज्यपाल को बतौर सैलरी अब तीन लाख रुपए मिलेंगे। बजट 2018 सांसदों के लिए भी गुड न्यूज लेकर आया है। वित्त मंत्री ने बजट पेश करने दौरान कहा कि उनकी सरकार सांसदों की सैलरी और भत्तों  का नए सिरे अध्ययन और विश्लेषण करने के बाद उनकी सैलरी की सीमा समय करेगी। इतना ही नहीं वित्त मंत्री ने कहा कि सांसदों की तनख्वाह को लेकर सरकार हर पांच साल में विश्लेषण करेगी और उनके वेतमान में बदलाव किए जाएंगे। फिलहाल भारतीय सांसदों को 50,000 रुपये प्रतिमाह तनख्वाह मिलती है। अन्य भत्तों आदि को मिलकर यह 75000 रुपये तक पहुंचती है।