पणजी। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद भाजपा के लिए नए मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान करना बड़ी चुनौती थी। रविवार से जारी बैठकों के कई दौर सोमवार तक चले, लेकिन नए मुख्यमंत्री के नाम पर भाजपा के सहयोगी दलों में सहमति नहीं बन पा रही थी। देर शाम भाजपा ने सहयोगी दल महाराष्ट्रवादी गोमतंक पार्टी (एमजीपी),गोवा फॉरवर्ड पार्टी को मनाने के लिए एक नया फॉर्मूला बनाया। इसमें सहयोगी दल से दो उप मुख्यमंत्री बनाने की पेशकश की गई, जिसके बाद प्रमोद सावंत के नाम पर सहमति बन पाई।

राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने यहां देर रात लगभग दो बजे राजभवन में 46 वर्षीय सावंत को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। सावंत के अलावा पर्रिकर के नेतृत्व वाली कैबिनेट का हिस्सा रहे 11 विधायकों ने भी मंत्रियों के रूप में शपथ ली। पहले यह शपथ ग्रहण समारोह सोमवार की रात 11 बजे होना था लेकिन कुछ कारणों के कारण इसमें विलंब हुआ। प्रमोद सावंत बने गोवा के नए CM, दो उप-मुख्यमंत्रियों ने भी ली शपथ। सावंत गोवा विधानसभा के अध्यक्ष थे। इससे पहले सावंत ने कहा था कि उनकी पार्टी भाजपा ने उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी दी है।

गोवा में मुख्यमंत्री मनोहर पारीकर के निधन के बाद राज्य सरकार पर आए संकट को भाजपा ने बेहतर सूझबूझ से टाल दिया है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक बार फिर अहम भूमिका निभाई और दोनों प्रमुख सहयोगी दलों गोवा फारवर्ड पार्टी (जीएफपी) व महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) को साधने में सफलता हासिल की। इससे बीते दो दिनों से सबसे बड़े दल के नाते सरकार बनाने का दावा ठोक रही कांग्रेस को एक बार फिर मायूस होना पड़ा है। गडकरी ने रात से ही बैठकों का सिलसिला शुरू कर दिया। सोमवार सुबह गडकरी भाजपा नेता व विधानसभा अध्यक्ष प्रमोद सावंत को नया नेता चुनने व जीएफपी व एमजीपी के नेताओं को उप मुख्यमंत्री पद के लिए तैयार करने में सफल रहे।

प्रमोद सावंत का जन्म 24 अप्रेल 1973 को हुआ है। वह गोवा के उत्तरी गोवा के संकेलिम विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। उन्होंने आयुर्वेद में डॉक्टरेट की उपाधि हासिल की है। प्रमोद सांवत की उच्च शिक्षा कोल्हापुर और पुणे से पूरी हुई है। उन्होंने सोशल वर्क में पुणे से एमए भी किया है। माना जाता है कि वह पर्रिकर के करीबी थे। बीते साल सितंबर में कांग्रेस ने प्रमोद सावंत को विधानसभा अध्यक्ष के पद से हटाने का नोटिस दिया था।