मुंबई । किरदार को जानदार बनाने या कहें कि उसमें उतरने के लिए कलाकारों को काफी होमवर्क करना पड़ता है। उनकी जीवनशैली को समझना पड़ता है और साथ ही भाषा पर भी ध्यान रखना  पड़ता है। कई बार ऐसी स्थितियां भी बन जाती हैं कि हिंदी भाषी अभिनेता को तमिल, तेलुगु या कन्नड़ फिल्म मिल जाती है जिसके लिए अहम चुनौती है उस भाषा को सीखना। पत्रलेखा भी उसी चुनौती का सामना कर रही है।
राजकुमार राव के साथ हंसल मेहता के निर्देशन में बनी “सिटीलाइट्स” फिल्म से अपना डेब्यू कर चुकी पत्रलेखा वह अब अपनी कन्नड़ फिल्म में डेब्यू के लिए तैयार हैं। राज और दामिनी के निर्देशन में बन रही इस फिल्म में पत्रलेखा पहली बार कन्नड़ सुपरस्टार गणेश के साथ स्क्रीन शेअर करती दिखाई देंगी। उन्होंने अपने किरदार के लिए कन्नड़ सीखना शुरू कर दिया है और अपनी बोली पर भी काम कर रही हैं। वह एक विशेष कन्नड़ ट्यूटर के साथ मिलकर काम कर रही हैं ताकि भाषा में निपुणता प्राप्त कर और उस भाषा की समझ प्राप्त कर सके। उनकी बोली स्वाभाविक और वास्तविक लगे इसीलिए वह दिन में दो घंटे कन्नड़ का अभ्यास करती हैं और कन्नड़ फिल्मे भी देखती हैं।