नई दिल्ली। ‘सुरक्षित इंटरनेट दिवस’ के अवसर पर, फेसबुक ने उत्तर प्रदेश में अपना ‘वी थिंक डिजिटल’ प्रोग्राम लाॅन्च किया। नेशनल कमीशन फाॅर वूमैन (एनसीडब्लू) एवं साईबर पीस फाउंडेशन के साथ साझेदारी में इस प्रोग्राम का उद्देश्य सात राज्यों में 100,000 महिलाओं को डिजिटल साक्षरता का प्रशिक्षण प्रदान करना है। इस प्रोग्राम की शुरुआत उत्तरप्रदेश से होगी, जिसके बाद असम, पश्चिम बंगाल, मध्यप्रदेश, गुजरात, झारखंड, बिहार आदि राज्यों में इस साल यह प्रोग्राम चलाया जाएगा।
इस ईवेंट में श्री जय प्रताप सिंह, कैबिनेट मंत्री, महिला कल्याण, परिवार कल्याण, माता व शिशु कल्याण मंत्रालय, उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा, ‘‘आज के समय इंटरनेट बदलाव का दूत बन गया है। ये प्रशिक्षण माॅड्यूल्स उत्तर प्रदेश की महिलाओं के लिए समान अवसरों के द्वार खोल देंगे और फेसबुक के साथ हम लोगों को सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए शिक्षित व समर्थ बनाना चाहते हैं।’’

श्रीमती रेखा शर्मा, चेयरपर्सन, नेशनल कमीशन फाॅर वूमैन, भारत सरकार ने कहा, ‘‘हम महिलाओं के बीच डिजिटल साक्षरता बढ़ाने पर केंद्रित हैं और टेक्नाॅलाॅजी द्वारा उन्हें मजबूत बनाना चाहते हैं, ताकि वो स्मार्ट विकल्प चुनें और आॅनलाईन जोखिमों से सुरक्षित रहें। यह प्रशिक्षण लर्निंग की प्रक्रिया में परिवर्तन लाने एवं समाज में एक व्यवस्थित बदलाव लाने पर केंद्रित है।’’

यह प्रशिक्षण कार्यक्रम डिजिटल साक्षरता एवं नागरिकता पर केंद्रण के साथ डिज़ाईन किया गया है तथा गोपनीयता, सुरक्षा व गलत जानकारी की समस्याओं को संबोधित करता है। इस प्रोग्राम में राज्य की 300 महिला प्रशिक्षुओं ने हिस्सा लिया तथा एनसीडब्लू एवं साईबर पीस फाउंडेशन द्वारा कार्यशालाएं आयोजित की गईं।

इस साझेदारी के बारे में मिस अंखी दास, डायरेक्टर, पब्लिक पाॅलिसी, फेसबुक इंडिया ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि महिलाओं को इंटरनेट पर समान आर्थिक अवसर, शिक्षा व सामाजिक संपर्क मिलने चाहिए। जीवन के विविध क्षेत्रों से विशेषज्ञों के साथ काम करते हुए हम निरंतर गतिविधियां इनोवेट व डिज़ाईन कर रहे हैं, जिनसे डिजिटल साक्षरता संभव होगी व समुदाय में परिवर्तन आ सकेगा। हम भारत में महिलाओं को डिजिटल प्रशिक्षण प्रदान करने को मिले सहयोग से काफी उत्साहित हैं और उम्मीद करते हैं कि इससे आने वाले महीनों में सकारात्मक परिवर्तन आएगा।’’

डिजिटल साक्षरता में केवल इंटरनेट का उपयोग ही नहीं, बल्कि सुरक्षित तरीके से सूचना व संचार प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करने का कौशल भी शामिल है। फेसबुक यूज़र्स को इस बारे में शिक्षित कर रहा है कि वेब आधारित टूल्स का उपयोग प्रभावशाली, सुरक्षित व जिम्मेदार तरीके से किस प्रकार किया जाए। इस प्रोग्राम के तहत कंपनी सरकारी व सिविल सोसायटी की एजेंसियों के साथ साझेदारी कर ऐसे लर्निंग माॅड्यूल्स विकसित करेगी, जो लोगों को कौशल प्रदान कर उन्हें आॅनलाईन जानकारी के प्रति क्रिटिकल थिंकिंग तथा नुकसानदायक कंटेंट की रिपोर्टिंग में मदद करेंगे।