नई दिल्ली। कोरोना महामारी से देश की जनता त्राहिमाम कर रही है। केंद्र और राज्य सरकार अपनी ओर से घोषणाएं कर रही हैं, लेकिन आम लोगों और गरीब लोगों की दुश्वारियां कम होने का नाम नहीं ले रही है। युवा भाजपा नेता विभय कुमार झा ने केंद्र और राज्य सरकार से मांग की है कि हरेक व्यक्ति के बैंक खाते में सहायता के रूप में 10 हजार रुपये सरकार को देना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज सुबह भारतीय रिवर्ज बैंक के गर्वनर ने कई राहत की घोषणा की है। इससे पहले भारत की वित मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से भी आर्थिक घोषणाएं हुई हैं।

एक सवाल के जवाब में विभय कुमार झा ने कहा कि तमाम सरकारी घोषणाओं बावजूद करोडों भारतीयों के सामने भूख का संकट है। भूख की विकराल समस्या है। इसके लिए सरकार यदि हरेक व्यक्ति के खाते में कम से कम 10 हजार रुपये की तत्काल सहायता प्रदान करती है, तो राहत की बात होगी। युवा भाजपा नेता विभय कुमार झा ने कहा कि अभी यह संभव नहीं है कि सरकार बीपीएल और आम लोगों की छंटनी करें। इसलिए सरकार यदि कोई स्लैब बनाना चाहती है, तो उन लोगों को इस सहायता श्रेणी से हटाया जा सकता है, जो आयकर दाता हैं। अमूमन माना जाता है कि जो आयकर देते हैं, उनकी आर्थिक स्थिति अपेक्षाकृत बेहतर होती है।