नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से देशभर में लॉक डाउन लागू किया गया है। लॉक डाउन को आगे लागू किया जाए या नहीं। इसको लेकर प्रधानमंत्री सर्वदलीय बैठक से लेकर अब राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर चुके हैं। वही प्रधानमंत्री को अधिकतर राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने लॉक डाउन को आगामी 30 अप्रैल तक बढ़ाए जाने का सुझाव दिया है। दिल्ली के अलावा पंजाब , महाराष्ट्र, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और कई अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने प्रधानमंत्री को सुझाव दिया है कि लॉक डाउन को राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ाने की जरूरत है। साथ ही कई मुख्यमंत्रियों ने प्रधानमंत्री को यह भी सुझाव दिया है कि मानवीय और सामाजिक स्तर को ध्यान में रखते हुए लॉक डाउन को बढ़ाया जाए।
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री को सुझाव दिया है कि लॉक डाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ाया जाए। लेकिन इसमें रेल, सड़क और हवाई यातायात को पूरी तरीके से बंद रखा जाए। साथ ही उन्होंने सुझाव दिया है कि अगर लॉक डाउन में ढील दी जाती है तो उसमें ट्रांसपोर्ट को ढील नहीं दी जाए। प्रधानमंत्री से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत करने के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ दिल्ली के चीफ सेक्रेटरी विजय कुमार देव, दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव और अन्य कई वरिष्ठ अधिकारी भी उनके साथ मौजूद रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों को आश्वस्त भी किया है कि वह हर समय वार्तालाप करने के लिए उपलब्ध है। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि राज्यों के मुख्यमंत्री कोरोना वायरस से लड़ने की लड़ाई के लिए वार्ता करने को कभी भी फोन कर सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना वायरस से लड़ाई लड़ने में हम सभी को कंधे से कंधे मिलाकर चलना होगा।

 

(साभार: भूपेंद्र पांचाल)