नई दिल्ली। कोरोना की वैक्सीन अभी भले ही अब टीकाकरण के लिए उपलब्ध हो। केंद्र सरकार की ओर से इसे अनुमति मिलना बाकी हो, लेकिन दिल्ली सरकार ने अपना होमवर्क कर लिया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि हमने 51 लाख दिल्लीवासियों को कोरोना वैक्सीन देने की तैयार कर रखी है। तमाम विभागों ने बेहतर समन्वय के साथ कार्ययोजना बना लिया है। दिल्ली सरकार पूरी तरह से तैयार है केंद्र से वैक्सीन लेने, उसे स्टोर करने और फिर उसके वितरण के लिए।

केजरीवाल ने बताया है कि कैसे शुरुआती दौर में 51 लाख लोगों को वैक्सीन लगेगी और कोई परेशानी आने पर इलाज के लिए जो भी जरूरत होगी वह पूरी कर ली गई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि दिल्ली में कोरोना की हालत में सुधार हुआ है। संक्रमित लोगों की संख्या भी काफी कम हुई है और इससे ठीक होने वाले लोगों की संख्या भी बढ़ी है। बीमार लोग ठीक होकर घर जा रहे हैं। अब लोगों को कोरोना की वैक्सीन का इंतजार है।

केजरीवाल ने ये भी कहा कि मान लीजिए अगर किसी को वैक्सीन से साइड इफेक्ट होता है तो उसके लिए स्पेशलिस्ट और अन्य चिकित्साकर्मियों की भी व्यवस्था कर ली गई है। तुरंत वहां इलाज किया जाएगा। दिल्ली में जहां भी टीकाकरण होना है वो भी तैयारी की जा रही है। एक लोकेशन पर पांच लोगों की टीम लगेगी। उन सभी लोगों की ट्रेनिंग हो चुकी है। सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं।

असल में, केंद्र ने तीन प्रकार के लोगों को वैक्सीन के लिए प्राथमिकता दी है। उनमें स्वास्थ्य कर्मचारी सबसे पहले हैं, जिनकी संख्या दिल्ली में करीब 3 लाख है। दूसरे नंबर पर फ्रंटलाइन वर्कर जैसे पुलिस, सफाई कर्मचारी आदि शामिल हैं, जिनकी दिल्ली में संख्या लगभग 6 लाख है।