नई दिल्ली। पूरे देश में कोरोना को लेकर कोहराम मचा है। संक्रमण की संख्या में वृद्धि जारी है। लोगों को अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे हैं। बीते दिनों आॅक्सीजन की आपूर्ति तक बाधित रही। भाजपा नेताओं की बयानबाजी जारी है। इसके बीच सवाल उठता है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह क्या कर रहे हैं ?

क्या देश के इस महामारी से अधिक उन्हें चुनावी राज्यों की चिंता है ? पश्चिम बंगाल में सरकार बनाने के लिए इतने परेशान क्यों हैं, क्या एक प्रदेश में सरकार बन भी जाए और पूरा देश बर्बाद हो जाए, क्या यह सोच सही है ? आज के समय में आम लोगों से बात कीजिए, वो यही कह रहे हैं किे इसके लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह जिम्मेदार हैं। बीते साल जब कोरोना हुआ था, उसके बाद उन्होंने क्यों नहीं इसे गंभीरता से लिया ? यदि ये चाहते और इनका मन काम करने का हो, तो पूरी व्यवस्था इनके हाथ में है।देश में रोज लाखों लोग संक्रमित हो रहे हैं। प्रधानमंत्री विधानसभा चुनाव में व्यस्त हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय रोज बयान जारी करता है। संक्रमण की संख्या बताता है। दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 24,638 नए #COVID19 मामले, 24,600 रिकवरी और 249 मौतें दर्ज़ की गई। बुधवार रात 12 बजे तक 24 घंटों में भारत में कोरोना के 3,15,478 नए संक्रमित मिले। महामारी की शुरुआत से लेकर अब तक एक दिन में संक्रमितों की यह संख्या पूरी दुनिया में सर्वोच्च है। इसके पहले विश्व में एक दिन में सर्वाधिक नए संक्रमित मिलने का रिकॉर्ड अमेरिका के पास था।