नई दिल्ली। नई दिल्ली। केंद्र ने गुरुवार को रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) के प्रमुख सामंत कुमार गोयल और इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के निदेशक अरविंद कुमार के कार्यकाल को एक साल के लिए बढ़ा दिया। गोयल और कुमार दोनों 1984 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी हैं, जो इस साल 30 जून को सेवानिवृत्त होने वाले थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने गोयल और कुमार दोनों की सेवा में 30 जून को समाप्त होने वाले वर्तमान कार्यकाल से एक वर्ष की अवधि के लिए विस्तार को मंजूरी दी। कार्मिक मंत्रालय द्वारा गुरुवार को जारी एक आदेश में कहा गया है कि दो प्रमुख पदों पर आसीन दोनों आईपीएस अधिकारियों की सेवा को संबंधित कानून के अनुसार विस्तार दिया गया है।

आदेश के अनुसार, अनुसंधान और विश्लेषण विंग में सचिव के रूप में गोयल की सेवा एक वर्ष के लिए बढ़ा दी गई थी। आदेश में यह भी उल्लेख किया गया है कि कुमार की सेवा खुफिया ब्यूरो के निदेशक के तौर पर एक वर्ष के लिए बढ़ा दी गई है। गोयल को 26 जून, 2019 को अनिल धस्माना की जगह रॉ के प्रमुख के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने 1990 के दशक में पंजाब में चरमपंथी संकट से निपटने में अहम भूमिका निभाई थी। गोयल ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद फरवरी 2019 बालाकोट हवाई हमलों की योजना बनाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

उरी आतंकी हमले के बाद 2016 में सशस्त्र बलों द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी। गोयल दुबई और लंदन में कांसुलर मामलों के प्रभारी के रूप में भी तैनात थे।

वहीं कुमार, जिन्हें कश्मीर का विशेषज्ञ माना जाता है, को 26 जून, 2019 को आईबी निदेशक के रूप में भी नियुक्त किया गया था। वह आईबी में रहते हुए वामपंथी नक्सल से निपटने में शामिल रहे हैं। असम-मेघालय कैडर के आईपीएस, कुमार ने इससे पहले बिहार में आईबी का नेतृत्व किया है।