नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में भले ही कोरोना संक्रमण के नए मामले हजारों में आ रहे हों। सैकड़ों की संख्या में डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव हों रहे हों, लेकिन दिल्ली सरकार अभी लॉकडाउन लगाने के मूड में नहीं है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि अभी हमारा दिल्ली में लॉकडाउन लगाने की कोई मंशा नहीं है। कल DDMA की दोबारा मीटिंग है, उस मीटिंग में हम विशेषज्ञों के साथ फिर से स्थिति का जायज़ा लेंगे कि और क्या-क्या करने की ज़रुरत है। केंद्र से भी हमें पूरा सहयोग मिल रहा है।

 

कयास लगाए जा रहे थे कि दिल्ली में पूरी तरह से लॉकडाउन लग सकता है। लेकिन इन कयासों पर आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके जवाब दिया। मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की कि लोग बिना मास्क पहने घर से बाहर नहीं निकलें, जरूरत ना हो तो घर से बाहर ही ना निकलें, जब भी घर से बाहर निकलें मास्क पहनकर निकलें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। अगर आप लोग ऐसा करते हैं तो दिल्ली में लॉकडाउन लगाने की कतई जरूरत नहीं पड़ेगी।

 

रविवार को मीडिया से बात करते हुए अरिवंद केजरीवाल ने कहा कि मुझे भी कोरोना हुआ था। डॉक्टरी सलाह और होम आइसोलशन के बाद अब ठीक हो गया हूं। हमारी लोगों से अपील है कि वो कोरोना के लिए जारी दिशा-निर्देश का पालन करें। जब कभी भी घर से बाहर जाएं, मास्क जरूर लगाएं। कोरोना वैक्सीनेशन में अपना योगदान दें। कोरोना की तीसरी लहर से बचने के लिए यह सबसे कारगर उपाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार को लोगों के रोटी-रोजगार की चिंता है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यह भी कहा कि दिल्ली में कोरोना के मामले बहुत तेज़ी से बढ़ रहे हैं। यह एक चिंता का विषय तो है लेकिन घबराने की बात नहीं है। पिछली लहर के मुकाबले इस बार की कोविड लहर में मृत्यु कम हो रही है और लोगों को अस्पताल जाने की ज़रूरत भी कम पड़ रही है।