मुंबई। विवादित लेखक रहे अपूर्वा असरानी की बतौर निर्देशक पहली फिल्म में मनोज बाजपेयी मुख्य भूमिका निभाएंगे। इतना ही नहीं, इस फिल्म का मनोज बाजपेयी सह निर्माण भी करेंगे। अपूर्वा के साथ मनोज का रिश्ता पुराना रहा है। रामगोपाल वर्मा की फिल्म सत्या में मनोज ने भीकू म्हात्रे के किरदार में सफलता पाई थी। इस फिल्म के लेखन से अपूर्वा भी जुड़े हुए थे। इसके बाद हंसल मेहता की फिल्म अलीगढ़ में मनोज ने एक कालेज के प्रोफेसर का रोल किया था, जो समलैंगिकता के संबंधों का समर्थन करता है।

 इस फिल्म की पटकथा अपूर्वा असरानी ने लिखी थी। अपूर्वा असरानी ने सोशल मीडिया पर इस फिल्म के बारे में लिखा कि ये एक ऐसे जीनियस शख्स की कहानी है, जिसकी दिमागी हालत कमजोर होने लगती है। वे इसे एक व्यक्ति की संवेदनात्मक यात्रा का वृतांत कहते हैं। अपूर्वा असरानी उस वक्त विवादों में आए थे, जब हंसल मेहता की फिल्म सिमरन में कंगना को सह निर्देशक और पटकथा लेखक का क्रेडिट दिया गया था, जबकि अपूर्वा का दावा था कि पटकथा में कंगना ने कोई योगदान नहीं दिया।
उन्होंने कंगना को सह निर्देशक के क्रेडिट दिए जाने पर भी आपत्ति जताई थी। अपूर्वा के साथ मनोज की बतौर निर्देशक पहली फिल्म इस साल के आखिर तक शुरु होने की संभावना है। मनोज बाजपेयी इससे पहले गलि गुलियां फिल्म का निर्माण कर चुके हैं, जिसे बाक्स आफिस पर कोई बड़ी सफलता नहीं मिली थी।