योगी आदित्यनाथ ने किया प्राकृतिक कृषि प्रशिक्षण शिविर का शुभारम्भ


लखनऊ । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को लोक भारती द्वारा अम्बेडकर विश्वविद्यालय में आयोजित शून्य लागत प्राकृतिक कृषि प्रशिक्षण शिविर का शुभारम्भ किया। इस मौके पर प्राकृतिक कृषि के जन्मदाता पद्मश्री सुभाष पालेकर और लोकभारती के सचिव बृजेन्द्र पाल सिंह, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया और राज्यमंत्री स्वाती सिंह प्रमुख रूप से मौजूद रही। इस मौके पर बोलते हुए सुेकर ने कहा कि खाद्य सुरक्षा एक वैश्विक समस्या बन चुकी है। इस लिए मानव निर्मित समस्या का हल हमें खोजना होगा। रासायनिक उर्वरकों के अंधाधुंध प्रयोग से जमीन की उर्वरा शक्ति खत्म हो रही है और खाद्यान्न भी विषयुक्त हो रहे हैं।
सुभाष पालेकर ने कहा कि इसमें पशुधन के माध्यम से खेती होती है। जीरो लागत में कुछ भी खेतों में जलाया नहीं जाता है। यह प्रदूषण मुक्त खेती भी है। बड़े-बड़े महानगरों में लोग शहर छोड़ कर भाग रहे हैं।
वैश्विक तापमान में वृद्धि से कृषि में बहुत नुकसान हो रहा है। जैविक और रासायनिक खेती से बहुत नुकसान है। जीरो बजट प्राकृतिक खेती में लागत कुछ नहीं है। पैदावार अधिक है। 10 प्रतिशत पानी की सहायता से फसल से अच्छी पैदावार ले सकते हैं। रासायनिक खेती से बहुत सारा धन बाहर जा रहा है। गांव को बचाने के लिए यह कृषि अनिवार्य है। युवा पीढ़ी को इस ओर ध्यान देने की जरूरत है। इसके लिए देशी गाय को बचाना बहुत जरूरी है। बिना गाय के खेती संभव नहीं है। यह प्रशिक्षण 25 दिसम्बर तक चलेगा। इस शिविर में कई देशों के किसान प्रशिक्षण लेने आये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.