मुंबई। टीवी के रियालिटी शो का हिस्सा बनने के बाद कई सिंगर्स बॉलीवुड में तेज़ी से उभरे जिनमें एक नाम भूमि त्रिवेदी का भी है। पहले फिल्म ‘रईस’ में पतंगबाजी पर फिल्माया गया उनका गीत ‘उड़ी उड़ी जाए रे’ लोगों की जुबान पर चढ़ा। इससे पहले भी फिल्म ‘रामलीला’ का गीत ‘राम चाहे लीला’ भी खूब चर्चित हुआ था।

भूमी ने अपनी गायन शैली से संगीत प्रेमियों के दिल में खास जगह बनाई है। काफी कम समय में उन्होंने अलग-अलग तरह के गीत गाकर खुद को प्रूव किया है। रिएलिट शोज़ के साथ—साथ लाइव कन्सर्ट में भी भूमि की सक्रियता बरकरार है। हाल ही में लोकप्रिय नाटक देवदास में प्रसिद्ध चरित्र चंद्रमुखी के लिए उन्होंने ठुमरी और मुजरा गाया। लोकप्रिय बॉलीवुड चार्ट बस्टर्स के आलावा उन्होंने कई गुजराती फिल्मों के लिए भी गाना गाया हैं। रिमिक्स गीत ‘बिन तेरे सनम’ को लेकर भी भूमि चर्चाओं में रही। कई वर्ष पहले फिल्म ‘यारा दिलदारा’ के इस गीत को कविता कृष्णमूर्ति और उदित नारायण ने गाया था।

भूमि का मानना है कि फिल्म के किसी भी गीत का प्रमोशन अच्छा हो जाए तो गीत भी हिट हो जाता है। वह कहती हैं कि मेरे लिए बीता वर्ष संगीतमय रहा। संगीत तेजी से बदल रहा है और मैं खुद को भाग्यशाली महसूस करती हूं कि मुझे अलग अलग तरह के संगीत तथा गानों का का हिस्सा बनाने का अवसर मिला।

भूमि कहती हैं कि मैं क्वांटिटी से ज्यादा क्वालिटी पर यकीन रखती हूं। यही कारण है कि कई बार लंबा समय हो जाता है कोई गीत गाए हुए। हालांकि बीच-बीच में मैं कुछ प्रयोग भी करती रहती हूं। नॉन कमर्शियल सॉन्ग भी गाती हूं। भूमि ने बताया कि मैं केवल अच्छे गीत और अच्छे संगीत पर फोकस करना चाहती हूं। बाकी किसी चीज पर मेरा ध्यान कम है। यही कारण है कि हर पल कुछ न कुछ बेहतर करने की कोशिश रहती है।