LIVE NOW

UP Election Results:   ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM), जिसने यूपी चुनाव में 100 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की घोषणा की थी, राज्य में खाता खोलने में विफल रही है। AIMIM सुप्रीमो और हैदराबाद के लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए एक नया मोर्चा, भागीदारी परिवर्तन मोर्चा शुरू किया था, जिसमें मुसलमानों, अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) और दलितों के बीच समर्थन वाले दलों को शामिल किया गया था। AIMIM ,आजमगढ़ की मुबारकपुर सीट जीतने के लिए आश्वस्त थी, जहां उसने बसपा के पूर्व नेता गुड्डू जमाली को मैदान में उतारा था।

ओवैसी ने यह भी कहा था कि अगर भागीदारी परिवर्तन मोर्चा चुनाव जीतता है, तो उसके पास दो मुख्यमंत्री होंगे – एक दलित और एक ओबीसी नेता, इसके अलावा तीन उपमुख्यमंत्री होंगे, जिनमें से एक मुस्लिम होगा।  बाबू सिंह कुशवाहा के नेतृत्व वाली जन अधिकार पार्टी, वामन मेश्राम के नेतृत्व वाला भारत मुक्ति मोर्चा, अनिल सिंह चौहान के नेतृत्व वाली जनता क्रांति पार्टी और राम प्रसाद कश्यप के नेतृत्व वाली भारतीय वंचित समाज पार्टी मोर्चा का हिस्सा थीं। यूपी में चुनाव प्रचार के दौरान ओवैसी ने राज्य के लोगों के सामने आ रहे कई मुद्दों को उजागर करने की कोशिश की. इसने राज्य विधानसभा चुनावों में ‘हिजाब’ विवाद को भी ला खड़ा किया था।

हिजाब विवाद पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा था, “भाजपा सरकार हमारी बेटियों को हिजाब पहनने और पढ़ने की अनुमति नहीं दे रही है, लेकिन प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी तीन तलाक कानून के साथ मुस्लिम महिलाओं को सशक्त बनाने की बात करते हैं। क्या यह उनकी ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान की पिच है?”। उन्होंने आजम खान के बारे में भी बात की जो इस समय कई आरोपों का सामना कर रहे हैं। फिलहाल खान जेल में बंद है।

2017 में, AIMIM, जिसने उत्तर प्रदेश में 38 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए थे, हिंदी भाषी क्षेत्र में अपना खाता खोलने में विफल रही थी, हालांकि उसे लगभग 2 लाख वोट मिले थे। इस बार उसे 22.3 लाख वोट मिले हैं और उसके वोट शेयर में मामूली वृद्धि हुई है।