राजस्थान में 11,000 बच्चों को स्कूली शिक्षा की मुख्यधारा में शामिल किया

 

जयपुर। भारती एन्टरप्राइजिस की लोकोपकारी संस्था, भारती फाउंडेशन ने घोषणा की है कि राजस्थान में 472 गांवों में 10,840 से अधिक शिक्षा से वंचित बच्चों को फाउंडेशन के सत्य भारती लर्निंग सेन्टर प्रोग्राम के माध्यम से नियमित विद्यालयी शिक्षा की मुख्यधारा में शामिल किया गया है। भारती फाउंडेशन की इस हस्तक्षेप ने, इस क्षेत्र में मुख्यधारा में शामिल करने की पहल के फलस्वरूप राजस्थान सरकार को छह ब्लाकों को ‘शिक्षा से वंचित बच्चों’ से मुक्त घोषित करने में समर्थ बनाया है। इन छह ब्लाकों में से, तीन (छोहतान, सिंधारी और रामसर) बाड़मेर जिले में हैं जबकि शेष (चैथ का बरवारे, बोनली और सवाई माधोपुर) सवाई माधोपुर जिले में स्थित हैं । (ब्लाक-वार विवरण हेतु अनुबंध ‘क’ का अवल®कन करें)।
इस अवसर पर डाॅ. प्रिय बलराम शर्मा, उपायुक्त (राजस्थान शैक्षणिक पहल), राजस्थान प्राथमिक शिक्षा परिषद का कहना था, “हम शिक्षा से वंचित बच्चों की पहचान करने और उन्हें सरकारी विद्यालयों की मुख्यधारा में लाने के लिए भारती फाउंडेशन के सत्य भारती लर्निंग सेन्टर प्रोग्राम की प्रशंसा करते हैं, जिसके द्वारा हमारे राज्य में छह ब्लाकों को शिक्षा से वंचित बच्चों से मुक्त घोषित किया जा सका है। हमें पूरी आशा है कि भारती फाउंडेशन अपने सराहनीय प्रयासों को जारी रखेगी और अंततः राजस्थान के सभी जिलों में बच्चों को वापस स्कूल में लाने में मदद करेगी।“
भारती फाउंडेशन के सत्य भारती लर्निंग सेन्टर प्रोग्राम के अंतर्गत, फाउंडेशन ने राजस्थान के 1,091 गांवों में केन्द्र स्थापित किए हैं जो 25,000 से अधिक बच्चों पर प्रभाव डाल रहे हैं। इनमें से 20,000 से अधिक बच्चों को निवारक पाठ्यक्रम पढ़ाने के बाद आयु-अनुसार-उपयुक्त कक्षाओं की मुख्यधारा में लाया जा चुका है। सत्य भारती लर्निंग सेन्टर प्रोग्राम एक निवारक/सेतु पाठ्यक्रम प्रोग्राम है जिसका लक्ष्य शिक्षा से वंचित बच्चों की विद्याप्राप्ति अंतराल को दूर करना और उन्हें नियमित स्कूलों की मुख्यधारा में शामिल करना है।
इस अवसर पर भारती फाउंडेशन की सीईओ विजय चड्डा का कहना था कि जब हम ‘शिक्षा से वंचित बच्चों’ को मुख्यधारा में लाने की उपलब्धि का जश्न मनाते हैं तो यह हमें और अधिक बच्चों को वापस स्कूल में लाने की प्रतिबद्धता को और ज्यादा मजबूत बनाता है। असल में 2013 में इस प्रोग्राम के शुभारंभ के बाद, भारती फाउंडेशन के सत्य भारती लर्निंग सेन्टर प्रोग्राम ने राजस्थान, झारखंड और मध्य प्रदेश के शैक्षिक दृष्टि से पिछड़े हुए 47 ब्लाकों में लगभग 1,500 गांवों में लगभग 37,000 बच्चों पर सीधा प्रभाव डाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.