नई दिल्ली।  रक्षामंत्री श्री राजनाथ सिंह ने 30 जून 2019 को पहली बार पूर्वी नौसैनिक कमान का दौरा किया। इस दौरान उन्हें पूर्वी कमान की परिचालन संबंधी तैयारियों और पूर्वी समुद्री तट के सामुद्रिक एवं तटीय सुरक्षा संबंधी अऩ्य पहलुओं से अवगत कराया गया। बाद में उन्होंने विशाखापत्तनम में भारतीय नौसेना द्वारा स्वदेशी तकनीक से परिकल्पित एवं निर्मित फ्रंटलाइन स्टेल्थ युद्धपोत आईएनएस शिवालिक और भारतीय नौसैनिक पनडुब्बी सिंधुकीर्ति का दौरा किया। इस युद्ध पोत और पनडुब्बी के निर्देशित दौरे में रक्षामंत्री ने चालक दल के सदस्यों के साथ बातचीत की।
नौसेना कर्मियों और अऩ्य रक्षा कर्मियों को संबोधित करते हुए रक्षामंत्री ने सामुद्रिक खतरों के खिलाफ निरंतर सतर्कता बनाए रखने और देश के सामुद्रिक हितों की रक्षा करने में जुटे प्रत्येक नौसैनिक की देशभक्तिपूर्ण भावना की सराहना की। उऩ्होंने भारत की एक्ट ईस्ट पॉलिसी के कार्यान्यवन नौसेना की महत्वपूर्ण भूमिका पर भी प्रकाश डाला। बाद में उन्होंने बड़ाखाना के दौरान नौसेना कर्मियों के साथ बातचीत की। रक्षामंत्री के नई दिल्ली रवाना होने से पहले उनको लंबी दूरी वाले सामुद्रिक टोही युद्धक विमान पी-81 के बारे में भी जानकारी दी गई।