क्यों अजेय माना जाता है बरेली में संतोष गंगवार का सियासी किला ?

बरेली। पिछले करीब तीन दशक से बरेली सीट पर भारतीय जनता पार्टी का एक छत्र राज रहा है. यहां से सांसद संतोष गंगवार कई बार इस सीट पर चुनाव जीत चुके हैं और इस समय केंद्र सरकार में मंत्री है. बरेली क्षेत्र में संतोष गंगवार का राजनीतिक दबदबा है. 2019 में एक बार फिर बीजेपी को उम्मीद रहेगी कि संतोष गंगवार पार्टी के लिए यहां से कमल खिलाएं.पिछले लोकसभा चुनाव में यहां समूचे उत्तर प्रदेश की तरह मोदी लहर का असर दिखा था. बीजेपी के संतोष गंगवार को इस सीट पर 50 फीसदी से अधिक वोट प्राप्त हुआ था. जबकि दूसरे नंबर पर रहे समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार को सिर्फ 27 फीसदी वोट मिले थे. 2014 के चुनाव में यहां कुल 61 फीसदी मतदान हुआ था, इनमें से 6700 वोट NOTA में गए थे.

स्थानीय सांसद संतोष गंगवार इस क्षेत्र के दिग्गज नेता रहे हैं. वह यहां से सात बार सांसद चुने गए हैं, जिनमें से 6 बार तो उन्होंने लगातार चुनाव जीता था. संतोष गंगवार अपने क्षेत्र में काफी स्वच्छ छवि रही है. संतोष गंगवार अभी केंद्र सरकार में मंत्री हैं और कई कमेटियों का हिस्सा भी हैं. ADR की रिपोर्ट के मुताबिक, संतोष गंगवार के पास 3 करोड़ से अधिक संपत्ति है. अपने सांसद निधि फंड से उन्होंने लगभग 99 फीसदी राशि खर्च कर ली है.

बरेली लोकसभा सीट पर अभी तक 16 बार बार चुनाव हुए हैं, इनमें से 7 बार भारतीय जनता पार्टी ने बाजी मारी है. जिसमें से 6 बार तो लगातार जीत दर्ज की गई थी. 1952, 1957 के चुनाव में कांग्रेस ने यहां जीत दर्ज की. लेकिन 1962 और 1967 के चुनाव में यहां कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा और भारतीय जनसंघ ने यहां जीत दर्ज की. हालांकि, उसके बाद हुए तीन चुनाव में से दो बार कांग्रेस चुनाव जीती. 1989 के चुनाव में यहां बीजेपी की ओर से संतोष गंगवार जीते, जिसके बाद तो उन्होंने इस क्षेत्र को अपना गढ़ बना लिया. 1989 से लेकर 2004 तक लगातार 6 बार संतोष गंगवार यहां से चुनाव जीते. हालांकि, 2009 के चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा लेकिन 2014 में एक बार फिर वह बड़े अंतर से जीत कर लौटे.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.